kaan ke dard ka gharelu upchar Home remedies for ear pain problem in hindi sagarvansi ayurveda

कान के दर्द की समस्या का घरेलू उपचार / kaan ke dard ka gharelu upchar Home remedies for ear pain problem in hindi

कान के दर्द की समस्या का घरेलू उपचार (Pain in Ear or Ear Pain)

 

कान का दर्द( Pain in Ear or Ear Pain)  देखा जाए तो मानव शरीर में सभी अंग काफी महत्वपूर्ण  होते हैं सभी अंगों का अपना-अपना कार्य होता है इनमें से यदि कोई भी अंग ठीक तरह से कार्य नहीं करे या शरीर का कोई भी हिस्सा दर्द से पीड़ित हो जाए तो पीड़ित व्यक्ति को कोई भी कार्य करने में रुचि नहीं होती या कहें तो दर्द या बीमारी के कारण किसी कार्य में मन नहीं लगता। आज यहां हम आप से बात कर रहे हैं कान के दर्द की समस्या की जैसा कि हमने उपरोक्त आपको बताया कि मानव शरीर में दर्द कहीं भी हो पीड़ित व्यक्ति को तब तक चैन नहीं पड़ेगा जब तक कि दर्द में आराम नहीं मिल जाता इसी प्रकार कान का दर्द होता है कि जब तक पीड़ित जगह पर दर्द शांत नहीं हो जाता तब तक चैन नहीं मिलता कान में दर्द की समस्या किसी भी व्यक्ति या किसी भी उम्र के व्यक्ति को उत्पन्न हो सकती है। इसमें सबसे अधिक यह समस्या छोटे उम्र के बच्चों में देखी जाती है। कान में दर्द होने की कई सारी वजह होती हैं जैसे काम बंद होना, कान का बहना, कान में पानी चले जाना इत्यादी। कान के दर्द का घरेलू उपचार करने के लिए सर्वप्रथम कान में दर्द होने के कारण का जानना जरूरी होता है। क्योंकि कई बार ऐसा होता है कि पीड़ित व्यक्ति कान के दर्द का सही कारण नहीं जान पाते हैं और गलत तरह से उपचार करने लगते हैं। जिसकी वजह से दर्द में आराम नहीं मिल पाता और वह परेशान रहते हैं।

 

कान के रोग के लक्षण

* कान में खुजली होना 

* बार बार कान का सुन्न होना 

* लगातार कान में दर्द बने रहना

* कम सुनाई देना 

* कान में भारीपन सा महसूस होना

 

कान मैं दर्द होने के कारण

* कान में इन्फेक्शन या कोई एलर्जी होना

* कान में पानी चले जाने से कान में दर्द होना

* सर्दी जुकाम होने के कारण कान में दर्द होना

* कान में अधिक मेल जमा हो जाने के कारण दर्द होना

* कान में कीड़ा चले जाने के कारण दर्द होना

 

कान के दर्द की समस्या का घरेलू उपचार (Pain in Ear or Ear Pain)

1. तुलसी के पत्तों को पीसकर उसके रस की कुछ बूंदे कान में डालें इस प्रकार तुलसी के रस का प्रयोग दिन में दो से तीन बार करने पर कान का इन्फेक्शन और दर्द दूर होता है। यदि कान में जख्म हो गया हो तो भी इस प्रयोग से आराम मिल जाता है।

2. नीम के पत्तों के रस की दो से तीन बूंदे कान में डालें नीम के रस से कान में किसी भी प्रकार के इंफेक्शन या दर्द को नीम के रस का प्रयोग करने से आराम मिलता है। नीम का तेल भी कान का दर्द के लिए दवा का काम करता है। इसे रुई की मदद से कुछ बूंदे कान में डालें और उसके बाद रूई को कुछ समय के लिए कान पर लगा दे।

3. आम के पत्तों को पीसकर उसका रस निकाल कर गुनगुना कर लें और इस गुनगुने आम के पत्तों के रस की दो से तीन बूंद दिन में दो से तीन बार कान में डालें इससे दर्द मैं जल्दी राहत मिलती है।

4. लहसुन की एक गांठ में से 2 लेहसुन की कली लेकर उनको अच्छी तरह साफ करके उनका छिलका उतार लें और दो चम्मच सरसों के तेल में डालकर हल्की - हल्की आंच पर गर्म करने के लिए रखें जब लेसन जलने लगे और काला पड़ने लगे तब तेल की कटोरी आग से नीचे उतारकर तेल को कपड़े से छान लें या निथरे हुए गुनगुने तेल को रुई के फाहे से कान में सुहाता - सुहाता दो से चार बूंद डालें इससे कान का दर्द दूर हो जाता है।

विशेष यदि कान में कीड़ा चला गया हो तो वह मर कर अपने आप बाहर निकल आता है और दर्द बंद हो जाता है यदि कान बहता हो तो लहसुन के साथ नीम की 10 से 15 कोपलें या पांच से सात पत्तियां भी तेल में औटाएँ तत्पश्चात दो से चार बूंद रात को सोने से पहले कुछ दिन डालते रहने से कान का जख्म और कान का बहना ठीक हो जाता है।

विकल्प प्याज का रस थोड़ा सा गर्म करके दो से तीन बूंद कान में डालने से कान का दर्द तुरंत दूर हो जाता है। प्याज को कूट पीसकर मलमल के कपड़े से छान कर उसका रस निचोड़ लें और इस प्याज के रस को थोड़ा सा गर्म करके दो से तीन बूंद कान में सुहाता - सुहाता डालें अथवा गुनगुना - गुनगुना या सहन शक्ति अनुसार थोड़ा गर्म ड़ालें कान में कैसा भी दर्द हो इस प्रयोग से आराम मिल जाता है।

5. सर्दियों में ठंड की वजह से भी कान में दर्द उत्पन्न हो सकता है ऐसा होने पर गरम पानी को किसी बोतल में भरकर उस बोतल को एक कपड़े में लपेटकर या तौलिए में लपेटकर कान के आसपास गर्म पानी से सिकाई करें इस प्रयोग से कुछ देर में कान के दर्द में आराम मिल जाएगा।

 

kaan ka dard aisi samasya hoti hai jisme insaan apni sud bhud kho deta hai matlab usko apne dard ke aage kuch nahi samajh aata kyonki kaan ka dard kaafi tez hota hai jise sehen karna kaafi mushkil hota hai kaan ke dard ki samasya ke liye kaan ke dard ka gharelu upchar upar bataya gaya hai is kaan ke dard ka gharelu upchar se aap apne samasya me aaram paa sakte hai