Home remedies for diabetes solution sagarvansi ayurveda

डायबिटीज व मधुमेह के लिए घरेलू उपचार / Home remedies for diabetes solution

मधुमेह या डायबिटीज एक ही समस्या के दो नाम हैं। इस समस्या में मानव शरीर की कोशिकाओं में दौड़ रहे रक्त मैं अत्यधिक शर्करा होने से डायबिटीज की समस्या उत्पन्न हो जाती है। शरीर में शर्करा अधिक होने का कारण मानव शरीर में पेनक्रियाज नामक अंग के द्वारा उत्पन्न किए जाने वाले इंसुलिन की कमी के कारण होता है या ऐसा भी कह सकते हैं कि बढ़ती उम्र के साथ शरीर के कुछ अंग पूर्ण रूप से कार्य नहीं कर पाते जिसका असर अपने शरीर में कहीं ना कहीं दिखने लगता है। आजकल हमारी जीवनशैली ऐसी विचित्र हो गई है, जिसमें उच्च रक्तचाप एवं मधुमेह के रोगीयों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही हैं। मधुमेह से बचाव किया जा सकता है। इसी दृष्टि से यहां मधुमेह उत्पन्न करने वाले कारण, लक्षण, और उसके कुछ उपचार आदि दिए जा रहे हैं।

कारण

मधुमेह का पैतृकता (परिवार में पहले कोई इस समस्या से पीड़ित रहा हो), मोटापा, उच्च रक्तचाप, हार्ट अटैक, आयु, तनाव तथा श्रम ना करना आदि से गहरा संबंध है।

लक्षण

भूख प्यास अधिक लगना, जबान सुखना, बार-बार पानी पीने की इच्छा होना, बार बार लघु शंका होना ( मूत्र त्याग की इच्छा होना), भूख अधिक लगना, खुराक अच्छी खाने पर भी वजन में कमी होना, फोड़े फुंसियां निकलना, घाव तथा जख्म ठीक होने में काफी अधिक समय लगना, आलस्य आदि।

परहेज

चीनी (मीठा या मिठाई), चावल, आलू, मीठे फल, शरबत तथा वनस्पति वनस्पति घी से बचें।

पथ्य

आंवला,टमाटर, करेला, लौकी, गाजर, मूली, शलजम, हरी धनिया, पुदीना, मेथी पालक, चौलाई, बथुआ, अदरक, नींबू, खीरा, ककड़ी, फल, हरी सब्जियां, सोयाबीन, दाना मेथी, भुने चने, बेसन, दही, छाछ , बेलपत्र, तुलसी के पत्ते, नीम के पत्ते, आदि।

विशेष

1. प्रतिदिन प्रातः भ्रमण अथवा व्यायाम को जीवन में उतारना आवश्यक है।

2. विजयसार की लकड़ी के बने बर्तन (गिलास) में रात को पानी भरकर रख लें सुबह उठते ही उस पानी को पीने से कई रोग ठीक होते देखे गए हैं, यह क्रिया मधुमेह को दूर करती है।

3. भुने हुए अनाज का सेवन मधुमेह की समस्या में रामबाण औषधि है। जब तक आप अनाज या आटे को भूनकर अथार्त रोस्टेड अनाज का प्रयोग करेंगे, तब तक मधुमेह की शिकायत नहीं होगी और ना ही इंसुलिन की जरूरत पड़ेगी उदाहरण के लिए यदि गेहूं की रोटी खानी है तो गेहूं के आटे को कड़ाई या तवे पर थोड़े से घी या तेल में भूरालाल होने तक भूनकर  किसी बरतन में भर लें ।रोटी बनाने के समय भुने हुए आटे को लेकर अच्छे से गूंद कर  रोटी बनाने से रोटी स्वादिष्ट तथा पौष्टिक बनेगी। गेहूं ज्वार या बाजरे के आटे को भूनकर धुली  दलिया बनाकर स्वादिष्ट व्यंजन बनाएं। अनाज को भूनकर खाने से खाद्य का शीघ्र पाचन हो जाता है। इससे शरीर को शीघ्र शक्ति मिल जाती है कार्बोहाइड्रेट की अंतिम परिणीति अवस्था आयुर्वेद होने के कारण इसमें चर्बी नहीं होती और ना ही शरीर में ग्लूकोस की अधिक मात्रा बनाने का डर रहता है। यदि किसी व्यक्ती को मधुमेह है  तो मेरा यह मानना है की प्राणिमात्र को स्वस्थ रखने के लिए प्रकृति ने हमें बहुत कुछ दिया है अतः रोगी प्राकृतिक उपायों द्वारा प्रदत्त वनस्पतियों के प्रयोग से अपनी को दीर्घकाल तक स्वस्थ रख सकता है।

मधुमेह के लिए घरेलू उपचार (Home remedies for diabetes)

निम्नलिखित में से कोई भी सुविधाजनक घरेलू उपचार करके स्वस्थ हो सकते हैं। निम्नलिखित में से कोई भी सुविधाजनक घरेलू उपचार करके स्वस्थ हो सकते हैं।

1.तेजपत्रों से मधुमेह दूर करना-- इस प्रयोग से निराश रोगी भी लाभांवित हुए हैं अनुभूत प्रयोगविधि-- तेजपत्रों को अच्छे से बारीक कूटकर छान लें और शीशे में भर लें । इस चूर्ण में से नित्य तीन बार एक एक चम्मच भर पानी और दूध के साथ ले। खाने पीने में पथ्य एवं हल्का व्यायाम भ्रमण जरूरी है। हां ब्लड शुगर निल होने पर औषधि को बंद कर दें यदि यदि बंद परहेज के बाद मधुमेह द्वारा आता नजर आए तो एक-दो दिन फिर लेकर निरोगी बन जाए।

नोट: इस प्रयोग से डायबिटीज का स्तर बहुत जल्द गिरता है कृपया अपनी डायबिटीज के आधार पर औषधि की मात्रा तय करें।

2. दाना मेथी-- दाना मेथी का बारीक चूर्ण बनाकर एक शीशे में रख लें नित्य सुबह शाम करीब 10-10 ग्राम चूर्ण भोजन से पहले पानी या छाछ के साथ खाने से रक्त में शुगर का स्तर घटने लगेगा। यह औषधि 3-4 सप्ताह में सफलता देगी।

नोट: गर्भवती स्त्रियों को दाना मेथी का प्रयोग मना है। उनके लिए तेज पत्र ठीक रहेंगे

3.सदाबहार पौधे के पत्ते -- इस  पौधे  चार-पाँच पत्ते (फूल की पंखुड़ियां नहीं) स्वच्छ पानी में साफ करके प्रातः खाली पेट चबाने से उसके बाद दो घूंट पानी पीने से कुछ ही दिनों में स्थाई लाभ हो सकता है।

4.बेल --  बेल की 10-15 पत्तियां पानी में घोलकर (संभव हो तो 5-7 नीम, श्यामा तुलसी की पत्तियां भी साथ में पीस लें) कपड़े से छान कर पीना शुरु कर दें तो मधुमेह से छुटकारा मिल जाएगा कब्ज की प्रवृत्ति अभ्यास की अधिकता वाले  रोगियों को बेलपत्र विशेषकर लाभकारी होते हैं।

5.गेंदे के पौधे की ताजी हरी पत्तियां-- गेंदे की ताजी पत्तियों को सिल पर पीस लें आधा गिलास रस निकालकर छानकर प्रातः काल पी लें इसमें शुद्ध शहद मिला दें यह मिश्रण हाई ब्लड प्रेशर मधुमेह अल्सर बवासीर और आंखों के रोगी में हितकारी रहता है।