Prevent Heart Diseases sagarvansi ayurveda

हृदय रोग को रोकने के लिए जीवन शैली कैसे बदलें / Prevent Heart Diseases

एक व्यक्ति को हृदय रोग कई कारणों की वजह से होता है। इनमें से एक लोगों की जीवन शैली है। हमारे पूर्वजों को कभी हृदय रोग नहीं होता था इसका कारण उनकी सरल और स्वस्थ जीवन शैली थी। हृदय रोग के कारण, लेकिन, आज हमने अपनी जीवन शैली को बहुत जटिल बना दिया है, और हमारे भोजन में मिलावट हृदय रोग की समस्या को पाने के लिए एक अन्य कारण भी है। लेकिन गंभीर उपचारों के अतिरिक्त, आज हृदय रोग से बचने के कई तरीके भी हैं।

 

 

दिल की बीमारी से ग्रसित होने के पीछे हमारी जीवनशैली भी काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। अगर हम अपनी जीवनशैली और दैनिक दिनचर्या में थोड़ा सा परिवर्तन कर सकें तो दिल की बीमारी का ख़तरा आसानी से टल सकता है। हर डॉक्टर दिल के स्वास्थ्य के लिये आपको कुछ अच्छी आदतें सुझाता है। आजकल ज़्यादातर लोग दिल की बीमारी से पीड़ित होते हैं।

सारे विश्व में करीब 10 लाख लोग दिल की समस्या से गंभीर रूप से ग्रस्त होते हैं, और इनमें से 85% लोगों की मृत्यु भी हो जाती है। शोध से साबित हुआ है कि कोरोनरी (coronary) दिल की बीमारी मौत का काफी बड़ा कारण बनती है। अतः अपनी जीवनशैली की मदद से हम इस बीमारी को होने से रोक सकते हैं। नीचे इसके लिए कुछ नुस्खे दिए गए हैं।

ह्रदय रोग से बचाव, जीवन शैली में परिवर्तन के साथ, आसानी से हृदय रोग की समस्या को जीता जा सकता है। हृदय रोग के महत्वपूर्ण कारणों में से कुछ शामिल हैं : धूम्रपान, शराब पीना, शारीरिक गतिविधियों में कमी और तनाव है।

 

व्यायाम, फिट रहने का एक बढ़िया तरीका है। अगर आप बहुत कठिन शारीरिक गतिविधियों के लिए अनुकूलित नहीं हैं, तो आप अपने भौतिक कार्यक्रमों से 30 मिनट का समय निकालें और पसीना निकालने के लिये व्यायाम करें। एक सप्ताह में लगभग 5 दिनों के लिए तेज चलने की स्थिति आपके लिये बेहतर होगी। यदि आप अधिक वसा जला कर बाहर निकालना चाहते हैं, तो आप 60 मिनट की अवधि के लिए भी जा सकते हैं। इस प्रकार आप एक सप्ताह में 600- 1200 कैलोरी जलाकर आसानी से बाहर निकाल सकते हैं। यह आवश्यक नहीं है कि आप ज़िम में जाकर कठिन शारीरिक व्यायाम को करें। व्यायाम शुरू में थोड़ा थोड़ा करें और धीरे धीरे इसमें अधिक समय को दे और पसीना निकालें।

ह्रदय को स्वास्थ्य – धूम्रपान बंद करें (Stop smoking)

जैसा कि आप जानते हैं धूम्रपान हृदय रोग का एक अन्य कारण है जिसके कारण कैंसर हो सकता है, इसलिये पूरी तरह से धूम्रपान को रोकने की सलाह दी जाती है। सिगरेट में शामिल तंबाकू दिल की समस्याओं के प्रमुख जोखिम कारक के रूप में जाना जाता है। यह आपकी धमनियों को सकरा करने के लिये जिम्मेदार भी है जो बदले में एथेरोस्क्लेरोसिस को जन्म दे सकता है। एक व्यक्ति में दिल की समस्या की यह स्थिति निश्चित रूप से दिल का दौरा पड़ने को जन्म देगा। शुरू में आपनी आदत को बदलने के लिये कम निकोटीन सिगरेट या ई सिगरेट का प्रयोग कर सकते हैं। लंबे समय तक इसका प्रयोग भी बहुत ही जोखिम भरा हो सकता है।

अगर आपका वजन सामान्य से अधिक है, तो आपके अधिक वजन की समस्या के कारण आपको कई घातक बीमारियां हो सकती हैं। इन घातक बीमारियों में से एक हृदय रोग है जो अधिक वजन के प्रभाव के कारण हो सकता है। आप हो सकता है कि इन बीमारियों के इलाज के लिये पर्याप्त समय पा जायें लेकिन, हृदय रोग आपको कभी भी समय नहीं देगा। एक अनुसंधान के अनुसार, यदि आपका वजन एक साल में एक किलो बढ़ता है तो हृदय रोग का जोखिम कभी भी कम नहीं होगा। यह महत्वपूर्ण होगा कि आप नियमित आधार पर बीएमआई (BMI) मापें और ऊंचाई के हिसाब से वजन को नियंत्रित करके फिट और स्वस्थ रहें।

 

आज, नियमित आधार पर स्वास्थ्य जांच एक महत्वपूर्ण गतिविधि है। ह्रदय को स्वस्थ, कई लोग मधुमेह, कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप आदि जैसी समस्याओं से पीड़ित हैं। आपको नियमित आधार पर अपने रक्त शर्करा के स्तर का परीक्षण और इसके लिए उपचार लेना चाहिए। यदि आप रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित कर सकते हैं, तो यह हृदय रोग के जोखिम को कम करने के लिए काफी आसान हो जाएगा।

स्वस्थ खानपान अपनाएं (Adopt healthy diet)

हममें से ज़्यादातर लोग स्वास्थ्य के नहीं बल्कि स्वाद के पीछे भागते हैं। यही कारण है कि ज़्यादातर लोग दिल की बीमारी के शिकार होते हैं। हम ज़्यादातर स्नैक्स (snacks) जैसे तले और कुरकुरे खाद्य पदार्थों का सेवन करना पसंद करते हैं, जो अस्वास्थ्यकर और सैचुरेटेड (saturated) वसा से युक्त होते हैं। अतः लोगों को इस प्रकार की जीवनशैली को त्याग देना चाहिए और इसके बदले स्वास्थ्यकर खानपान करना चाहिए, जिसके अंतर्गत हरी पत्तेदार सब्ज़ियां, विटामिन्स, फाइबर्स (vitamins, fibers) आदि मुख्य हैं।

रोज़ाना व्यायाम करें (Exercise regularly)

आज के दौर में लोगों को हर चीज़ बिल्कुल अपने हाथों में प्राप्त हो जाती है, जिसके फलस्वरूप वे काफी आलसी और अकर्मण्य हो जाते हैं। यह भी एक कारण है जिसकी वजह से लोग दिल की बीमारियों का शिकार हो सकते हैं। अगर आप रोज़ाना व्यायाम करें तो आप स्वस्थ रहेंगे और आपको दिल की बीमारियां छू भी नहीं पाएंगी। आप जिम (gym) जाकर व्यायाम करना शुरू कर सकते हैं। अगर आपके पास जिम जाने का समय नहीं है तो आपके लिए घर पर फ्री हैण्ड (free hand) व्यायाम करना ज़्यादा अच्छा रहेगा।

तनाव दूर करने के लिए ध्यान (Meditation for stress relief)

कई बार तनाव भी दिल का दौरा पड़ने का एक कारण होता है। आप अब नियमित रूप से ध्यान करके तनाव मुक्त वातावरण का निर्माण कर सकते हैं। ध्यान आपको तनाव से कोसों दूर रखता है। इसके अलावा यह आपको दिल की कई प्रकार की कोरोनरी समस्याओं के आसपास भी भटकने नहीं देता है। यह एक काफी अच्छी आदत है जो आपको हर तरह के तनाव से दूर रखेगा। ध्यान करने के फलस्वरूप आप हर तरह की मानसिक और शारीरिक चिंता से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं।