Home remedies for kidney pain problem in hindi kidney me dard ke liye gharelu upchaar se ilaaj sagarvansi ayurveda

गुर्दे में दर्द की समस्या का घरेलू उपचार / Home remedies for kidney pain problem in hindi kidney me dard ke liye gharelu upchaar se ilaaj

गुर्दे में दर्द की समस्या (Pain in Kidney)

गुर्दा मानव शरीर का खास अंग होता है। गुर्दे का महत्व मानव शरीर के लिए बेहद खास होता है। इसे हिंदी में गुर्दा तथा अंग्रेजी भाषा में (Kidney) नाम से जाना जाता है। गुर्दे मानव शरीर में दो होते हैं यह पेट के ऊपरी हिस्से में पीठ की तरफ होते हैं। इनमें से एक दाएं और दूसरा बाई तरफ होता है। गुर्दे मानव शरीर के लिए काफी महत्वपूर्ण कार्य करते हैं और इनका मानव शरीर में काफी महत्वपूर्ण स्थान भी है। मानव शरीर में गुर्दे की कार्यप्रणाली कुछ इस प्रकार है गुर्दे मानव शरीर में शरीर की गंदगी को निकालने में काम आते हैं इसके साथ ही यह गुर्दे मानव शरीर से अनुचित विषैले पदार्थ निकालने में सहायक होते हैं। इसके अतिरिक्त मानव शरीर में गुर्दों का काम शरीर में उत्पन्न होने वाले या शरीर में बनने वाले अम्ल की मात्रा को भी निर्धारित नियंत्रित करना होता है क्योंकि शरीर में अधिक अम्ल बनने के कारण मानव शरीर के रक्तचाप में भी वृद्धि हो सकती है। बढ़े हुए रक्तचाप से भी कई प्रकार की परेशानियां उत्पन्न हो सकती हैं। इस कारण से रक्तचाप का नियंत्रित होना नियंत्रित करना बेहद आवश्यक है। कई शोध में यह देखा और पाया गया है कि साधारण तौर पर ज्यादातर बिना किसी बड़े कारण या किसी बड़ी समस्या के गुर्दे में दर्द की समस्या नहीं देखी गई है यह अलग बात है कि किसी कारण से गुर्दे में चोट लग जाए, गुर्दे में पथरी होने के कारण उत्पन्न दर्द कभी कबार किसी छोटे कारण से दर्द उत्पन्न हो सकता है। गुर्दे के दर्द को नजरअंदाज बिल्कुल नहीं करना चाहिए क्योंकि यह बहुत घातक भी हो सकती है।

 

गुर्दे के दर्द की समस्या का  घरेलू उपचार (Pain in Kidney)

तुलसी की पत्तियां छाया में सुखाई हुई 20 ग्राम की मात्रा में, अजवाइन 20 ग्राम की मात्रा में बिल्कुल साफ की हुई, सेंधा नमक 10 ग्राम की मात्रा में तीनों वस्तुओं को खूब अच्छी तरह बारीक महीन पीसकर चूर्ण बना लें और प्रातः तथा शाम को तैयार मिश्रण में से लगभग 2 ग्राम की मात्रा में गुनगुने पानी के साथ सेवन करें। एक ही मात्रा से गुर्दे के दर्द से पीड़ित तड़पते हुए रोगी को चैन जाता है। आवश्यकतानुसार 1 से 2 दिन तक लें।

विशेष

* नजला, खांसी जुकाम के लिए यह रामबाण औषधि है।

* अफरा, पेट दर्द, खट्टी डकारे, बदहजमी, कब्ज तथा उल्टी के लिए भी उत्तम औषधि है।

* गुर्दे में दर्द के दोरान चावल और पालक का सेवन बिल्कुल बंद कर दें।

 

विकल्प गर्मियों में उपलब्ध होने वाले खरबूजे के छिलकों को पीसकर पिलाने से अथवा छिलकों को छाया में  सुखाने के बाद पीसकर पानी में मिलाकर थोड़ा गर्म करके पिलाने से पेट में पहुंचते ही गुर्दे के दर्द मैं तुरंत आराम मिल जाता है।अंदाज से 50 ग्राम छिलकों को पीसकर एक गिलास पानी में घोलकर पिलाएं। 

क्रीया:- खाना खाने के बाद तुरंत मूत्र मुक्ति की आदत डालने से किडनी सदा के लिए स्वस्थ रहती हैं।

नोट - उपरोक्त औषधि के सेवन से 2 से 3 दिन के भीतर यदि दर्द में लाभ ना मिले तो जल्द से जल्द किसी प्रशिक्षित चिकित्सक को अवश्य दिखाएं एवं सलाह लें।