daad ki problem ka gharelu ilaaj home remedy for ringworm sagarvansi ayurveda

दाद जैसे चर्म रोग से आराम पाने का घरेलू उपचार / daad ki problem ka gharelu ilaaj home remedy for ringworm

दाद का घरेलू उपचार (Ringworm)

दाद एक प्रकार के फंगल इन्फेक्शन के कारण होने वाला रोग है। इस रोग में मानव शरीर के किसी भी भाग के ऊपरी सतह यानी कि शरीर की खाल पर लाल रंग के चकत्ते उत्पन्न होने लगते हैं और इन चकत्तों के साथ-साथ उस जगह बहुत तेज खुजली भी होती है। दाद को अंग्रेजी में रिंगवर्म भी कहा जाता है और दाग को मेडिकल भाषा में टिनिया नाम से जाना जाता है। दाद रोग के संक्रमण के कुछ प्रकार होते हैं जैसे टिनिया कैपेटिस, टिनिया पेड़िस, टिनिया कार्पोरिस। दाद एक प्रकार का संक्रामक चर्म रोग होता है जो बड़ी आसानी से एक से दूसरे तक फैलता है। दाग को इसके लक्षणों से भी पहचाना जा सकता है जैसे त्वचा पर लाल रंग के पपड़ीदार उभरे हुए चकत्ते होते हैं और इसके अन्य लक्षण भी होते हैं जैसे चकत्ते वाली जगह या कहें कि दाद वाली जगह बालों का झड़ना, या दाद वाली जगह खुजली होना, दाद वाली जगह पर घाव हो जाना। उपरोक्त सभी लक्षण से दाग को पहचाना जा सकता है।

 

 दाद होने के कारण  जैसे की पहले हमने आपको बताया है कि दाद एक प्रकार का फंगल संक्रमण रोग है या कहें कि यह एक चर्म रोग है जो फंगल इंफेक्शन के द्वारा होता है। यह इंफेक्शन फफूंदी जैसा होता है यह दाद रोग को दूसरे व्यक्ति या और कई कारणों से फैल सकता है

 

1. जानवर से मनुष्य में फैल सकता है :-  दाद से ग्रसित जानवर को स्पर्श करने से भी दाद संक्रमण मनुष्य के शरीर में फैल सकता है। जैसे घर के पालतू जानवर संक्रमित कुत्ते या बिल्ली को लाड़ प्यार करते समय दाद का संक्रमण फैलना दाद का संक्रमण गायों मैं भी काफी सामान्य सी बात होती है।

2. वस्तु से मानव में दाद का संक्रमण होना :-  मानव या जानवर द्वारा किसी वस्तु को छूने से दाद का संक्रमण उनमें फैल सकता है जैसे कंघी, ब्रश, कपड़े, तोलिया, बिस्तर, चादर आदि से संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता है।

3. मिट्टी से मानव में दाद का संक्रमण होना :- यह काफी कम होता है कि मिट्टी के संपर्क में आने से किसी व्यक्ति को दाद का संक्रमण हो जाए अक्सर यह तभी होता है जब कोई व्यक्ति अत्यधिक संक्रमित मिट्टी के संपर्क में लंबे समय तक बना रहे।

4. एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में दाद फैलना :- दाद संक्रमित व्यक्ति की त्वचा से किसी स्वस्थ व्यक्ति की त्वचा के संपर्क में आने पर यह रोग फैल सकता है।

 

दाद में आराम पाने का घरेलू उपचार

1. इमली के बीजों को नींबू के रस में पीसकर लगाने से दाद में आशातीत लाभ होता है। 2.  मूंगफली के छिलके वाली फली को 2 घंटे के लिए पानी में भिगो दें इसे पीस कर गाढ़ा लेप बना लें और दाद के स्थान पर लगाएं इससे भी लाभ मिलेगा।

3.  करेले के पत्ते के रस को दाद पर लगाने से लाभ होता है।

4. नींबू का रस व गुलाब का रस बराबर मात्रा में लेकर मिला लें इस रस को प्रतिदिन दाद पर लगाने से भी लाभ होता है।

5.  पुदीने के रस में नींबू का रस मिलाकर लगाने से दाग मिट जाता है।

daad ki samasya aisi samasya hoti hai jisme insaan ke shareer ke kisi hisse me laal rang ka ubhra hua ek chakatta ubhar aata hai is chakatta me insaan ko kaafi khujli bhi mehsoos hoti hai yeh ek aisi samsya bhi hai jo choone se felti bhi hai ye ek tarah ka fungal infection hota hai is samsya ke liye upar daad ki problem ka gharelu ilaaj bataya gaya hai is daad ki problem ka gharelu ilaaj se aap apni samsaya me aaram paa sakte hai