Home remedy for cracks in heels in hindi paon ki bibaiyon ka ilaj sagarvansi ayurveda

पांव की फटी एड़ियों या बिवाइयों का घरेलू उपचार से इलाज / Home remedy for cracks in heels in hindi paon ki bibaiyon ka ilaj

पांव की फटी एड़ियाँ या बिवाइयाँ ( Cracks in heels or chilblains)

पांव की बिवाइयाँ या फटी एड़ियाँ यह एक ऐसी स्थिति होती है जिसमें व्यक्ति के शरीर के कुछ स्थाई अंगों पर सूजन, तीव्र खुजली एवं बेहद पीड़ा होती हैं। जो कि व्यक्ति को किसी कार्य को कर पाने में असमर्थ कर देती है। बिवाइ शरीर के कुछ विशेष हिस्सों में उत्पन्न होती हैं जैसे पैर के अंगूठे में, उंगलियों में, एड़ी पर नाक एवं कान पर। आज यहां हम पैर या पांव की बिवाइयों के बारे में बात करेंगे आमतौर पर देखा जाए तो बिवाइयाँ कोई बहुत बड़ा रोग नहीं होता है परंतु यह अत्यधिक कष्टदाई पीड़ादायक रोग है। ऐसा रोग जिसमें शरीर पर अत्यधिक ठंडे तापमान की वजह से शरीर की त्वचा पर होने वाली सूजन को बिवाइ कहा जाता है। बिवाइयो को पर्नियों के रूप में भी जाना जाता है। बिवाइयों की समस्या मानव शरीर की रक्त वाहिनियों में उत्पन्न सूजन के कारण होती है। यह स्थिति खासतौर पर तब उत्पन्न होती है जब कोई व्यक्ति का शरीर अधिक गर्म तापमान से ठंडे तापमान की ओर रुख करता हैं तब यह समस्या उत्पन्न होने लगती है क्योंकि बेहद ठंडे या अधिक ठंडे तापमान में शरीर के रक्त का संचार धीमा या सामान्य से कम हो जाता है और ऐसी अवस्था से शरीर को अधिक गर्म तापमान में लाने से रक्त का संचार रक्त वाहिनियों में अप्रत्याशित विस्तार बिवाइयों का कारण हो जाता है।

 

पांव की फटी एड़ियों या बिवाइयाँ (Cracks in heels or Chilblains) का उपचार

नंगे पांव घूमने या ठंड़ के समय में शारीरिक खुश्की से यदि पांव की बिवाइयां बुरी तरह फट गई हों और एड़ियों में दरारें पड़ गई हों तो रात्रि में सोने से पहले पैरों को हल्के गर्म पानी में साधारण नमक डालकर सेकें इसकी मात्रा लगभग दो गिलास पानी में एक चम्मच नमक या कच्ची फिटकरी का बारीक पाउडर डालकर उसमें पैरों को 5 से 10 मिनट तक ड़ालकर सेंकें उसके बाद सूखे खुरदरे तौलिए से रगड़ कर पैरों को अच्छी तरह साफ कर लें पैरों की मुर्दा चमड़ी को निकालकर पैर साफ कर लें। 25 ग्राम देसी मोम शहद के छत्ते का प्राकृतिक मोम और 50 ग्राम तिल के तेल को मिलाकर गर्म कर लें अच्छी तरह मिल जाने पर तैयार मिश्रण को किसी साफ चौड़े मुंह की शीशी में भरकर रख लें। उपरोक्त विधि से पैरों को साफ करने के बाद तैयार मिश्रण को फटी बिवाइयों में भर दें 1 सप्ताह में बहुत अच्छा लाभ मिलेगा।

 

 विकल्प

 उपरोक्त तरीके से पैरों को साफ करने के बाद फटी हुई त्वचा तथा बिवाइयों पर प्रतिदिन सोने से पहले 4 से 5 मिनट तक अरंड के तेल की मालिश करें शरीर के किसी भी भाग की त्वचा फटने तथा बिवाइयों पर अरंड के तेल की मालिश करने से शीघ्र लाभ होता है।