Title The solution of the problem of ‘Dark circle’ surrounding the eyes sagarvansi ayurveda

आंखों के आसपास के कालेपन की समस्या का समाधान / Title The solution of the problem of ‘Dark circle’ surrounding the eyes

आंखों के आसपास कालापन (Dark circle)

सौंदर्य का अर्थ है सुंदरता या खूबसूरत दिखना या होना। आज के समय में सुंदर दिखने की सभी की इच्छा होती है। वैसे तो ईश्वर हर किसी को उसके अनुरूप सुंदर ही बनाता है परंतु फिर भी मनुष्य को अपनी इच्छा के अनुसार सुंदरता की आवश्यकता होती है। सुंदरता का अगर आज के दौर में परिचय दिया जाए तो कह सकते हैं कि एक ऐसा व्यक्ति जिसका रंग साफ हो यानी कि वह गोरा हो, जिसके चेहरे पर कोई दाग ना हो, चेहरा तरोताजगी से भरा हो इत्यादि। इस तरह की समस्याओं का समाधान कैसे करना है यह में अपनी वेबसाइट में पहले ही प्रेषित कर चुका हूं। परंतु कुछ ऐसी समस्याएं हैं जिनको मनुष्य स्वतः अपनी छोटी - छोटी गलतियों से उत्पन्न कर लेता है। जिनमें से एक समस्या है आंखों की चारों तरफ काले घेरे। काले घेरे एक ऐसी समस्या है जिसमें मनुष्य की आंखों के आसपास कालापन जाता है। इसका कारण है भोजन में विटामिन की कमी, अधिक समय तक कंप्यूटर, मोबाइल या टेलीविजन के साथ व्यस्त रहना, अधिक मानसिक तनाव, नींद की आपूर्ति अधिक रोना जैसे कारण होते हैं। इस समस्या में मनुष्य का थका हुआ व मुरझाया हुआ लगता है जिससे उसके रूप पर भारी असर पड़ता है या कहें की आंखों के चारों ओर काले घेरे हो जाने से मनुष्य  थका हुआ, परेशान, चिंतित लगने लगता है और ऐसी अवस्था में जब समाज में लोगों को देखा जाए तो यह प्रतीत होता है की व्यक्ति कितना मुरझाया हुआ व कुरूप है।

                

उपचार

 एक चम्मच की मात्रा में टमाटर का रस, आधा चम्मच नींबू का रस एक चुटकी भर हल्दी का चूर्ण बारीक पिसा हुआ एक छोटा चम्मच की मात्रा में बेसन इन सभी को उपरोक्त मात्रा में मिलाकर गाढ़ा लेप जैसा बना लें उपरोक्त तैयार लेप को आंखों के चारों तरफ हो रहे काले घेरे पर हल्के - हल्के हाथ से लगाकर 10 से 12 मिनट तक लगा रहने दें परन्तु लेप के सूखने से पहले हल्के - हल्के हाथों से मलने के बाद साधारण पानी से चेहरे को धो लें ऐसा कुछ दिनों तक रोज कम से कम दिन में एक बार प्रयोग करें उपरोक्त विधि आंखों के नीचे से काले घेरे हटाने के लिए सर्वोत्तम उपाय है।

 विशेष

 1. प्रायः आयरन, कैल्शियम की कमी के कारण नेत्रों के चारों तरफ काले घेरे उत्पन्न हो जाते हैं।अधिक क्रोधी स्वभाव या अधिक कामुक प्रवृत्ति के व्यक्ति को भी आंखों के आसपास काले घेरे उत्पन्न हो जाते हैं। इस समस्या में टमाटर का सेवन अधिक लाभदायक होता है। टमाटर में विटामिन 'सी' विटामिन 'ए' और आयरन के स्रोत होते हैं इसलिए इन्ही कारणवश टमाटर का सेवन आंखों के आसपास काले घेरे की समस्या में अधिक लाभप्रद है। इसके अलावा यदि रोज कम से कम आधा गिलास गाजर का जूस पिया जाए तो भी बहुत फायदा मिलेगा कच्ची गाजर के रस का सेवन भी आंखों के आसपास के काले घेरों को कम करने में या घटाने में लाभकारी है।

 

2. दूसरी विधि चार चम्मच टमाटर के रस में दो चम्मच नींबू का रस मिला लें और मुखमंडल पर हल्के - हल्के हाथों से मसाज कर लें और सूख जाने के बाद मुखमंडल को सादा पानी से धो लें यह उपाय दिन में दो बार सुबह व शाम करना चाहिए। इस टमाटर और नींबू के मिश्रण को प्रयोग कर कुछ ही दिनों में मुखमंडल दाग रहित व मुलायम हो जाता है। इस प्रयोग से चेहरे की गई रौनक फिर से लौट आती है चेहरे के छोटे - छोटे छेद भी भर जाते हैं और आंखों के आसपास के काले घेरे भी मिटने लगते हैं।

 

सहायक उपचार

उपरोक्त निवारण के साथ - साथ  पेय के रूप में टमाटर का जूस भी लिया जाए तो काफी जल्दी लाभ मिलेगा। 125 मिलीलीटर टमाटर का जूस मैं आधा नींबू का रस निचोड़ लें 5 से 7 पत्तियां पुदीने की पीसकर उसमें डाल दें और स्वाद अनुसार सेंधा नमक या फिर काला नमक मिला लें इस तैयार किए हुए ठंडे रस को प्रातः या सायं दिन में एक ही बार सेवन करना चाहिए इसके सेवन से कब्ज, पेट में कीड़े और चेहरे के कील मुँहासे से भी छुटकारा मिलता है। इसके अतिरिक्त सांवलापन भी दूर होता है। परहेज मिर्च, चाय, तेल तथा उष्ण प्रभावकारी पदार्थों का सेवन बंद कर दें।

 

विकल्प

आंखें अगर अंदर की और धंसती जा रही हो और आंखों के चारों तरफ कालापन आ गया हो तो बदाम का तेल और शहद दोनों समान अनुपात में मिलाकर किसी में शीशी में भरकर रख लें उसमें से रोज रात को सोते समय कुछ बूंदें आंखों के आसपास हो रहे काले घेरों या आंखों के आसपास धीरे-धीरे हल्के हाथों से मलें। इससे बहुत लाभ मिलेगा यदि बादाम का तेल और शहद ना मिले तो इसके स्थान पर सिर्फ जैतून का तेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यह प्रयोग 2 से 3 सप्ताह तक करने से उपरोक्त शिकायत दूर होगी और साथ में चेहरे की झुर्रियां दूर होगी।

 

 सहायक उपचार रात को भिगोए हुए बादाम की पांच गिरिया सुबह छीलकर खूब चबा-चबाकर खाएं और तुरंत बाद एक गिलासदूध के साथ प्रातः रोज 21 दिन तक सेवन करने से शीघ्र लाभ मिलेगा। देसी गुलाब के फूलों का गुलकंद एक चम्मच की मात्रा में शाम के समय सेवन करने से इस समस्या में काफी लाभ मिलता है।