want to make your teeth clean, shiny and healthy then adopt this successful home remedies in Hindi sagarvansi ayurveda

क्या आप चाहते हैं अपने दांतो को साफ, चमकदार व निरोगी बनाना तो अपनाइए यह सफल घरेलू उपचार / want to make your teeth clean, shiny and healthy then adopt this successful home remedies in Hindi

गंभीर समस्या पायरिया (pyorrhoea)
पायरिया रोग से ग्रस्त होने पर दांत ढीले होकर हिलने लग जाते हैं। मसूड़ों से मवाद और रक्त निकलने लगता है। दांतो पर कड़ी पपड़ियाँ जम जाती हैं। मुंह से दुर्गंध आने लगती है। उचित चिकित्सा न करने पर दांत कमजोर होकर गिरने लगते हैं। पायरिया प्रारंभ दांतों की देखभाल ना करने अनियमित ढंग से जब-तब कुछ ना कुछ खाते रहने के कारण तथा भोजन के ठीक तरीके से न पचने के कारण होता है लीवर की खराबी के कारण रक्त में अम्लता बढ़ जाती है दूषित अम्लीय रक्त के कारण दांत पायरिया से प्रभावित हो जाते हैं। मांस आदि तथा अन्य गरिष्ठ भोज्य पदार्थों का सेवन, पान, गुटका, तम्बाकू, आदि पदार्थों का अत्यधिक मात्रा में सेवन, नाक के वजाय मुख से श्वास लेने का अभ्यास, भोजन को ठीक से चबाकर न खाना, अजीर्ण, कब्ज आदि पायरिया होने के प्रमुख कारण हैं।

चिकित्सा
1. दांतो की प्रतिदन नियमितरूपसे अच्छी तरह सफाई करनी चाहिये। भोजन करने के बाद मध्यमा उंगली से अच्छे मंजन द्वारा दांतो को साफ करें नीम या बबूल का दातुन खूब चबाकर उससे ब्रश बनाकर दांत साफ करने चाहिए।  
2. सरसों के तेल में नमक मिलाकर उंगली से दांतों को इस प्रकार मलें कि मसूड़ों की अच्छी तरह मालिश हो जाए।
3. शोच या लघुशंका के समय दांतों को अच्छी तरह भींचकर कर बैठे ऐसा करने से दांत सदैव स्वस्थ रहते हैं।
4. रात को सोते समय 10 ग्राम त्रिफला चूर्ण जल के साथ तथा दिन में 2 बार अविपत्तिकर चूर्ण का सेवन करें।
5. जामुन की छाल के काढ़े से दिन में कई बार कुल्ले करें।
6. नीम का तेल मसूड़ों पर उंगली से लगाकर कुछ मिनट रहने दें फिर पानी से दांत साफ कर लें।
7. फिटकरी को भूनकर पीस लें। इसका मंजन पायरिया में लाभप्रद है। फिटकरी के पानी का कुल्ला करें।
8. भोजन के बाद दांतों में फंसे रह गए अन्न के कणों को नीम आदि की दंतखोदनी के द्वारा निकाल ले।
9. सुबह शाम पानी में नींबू का रस निचोड़ कर पिये।
10. पालक गाजर और गेहूं के जवारों का रस नित्यप्रति पिएं यह अपने आप में स्वतः औषधि का कार्य करता है।
11. जटामांसी 10 ग्राम, नीला थोथा, 10 ग्राम काली मिर्च, 5 ग्राम, लौंग 2 ग्राम, अजवाइन 2 ग्राम, अदरक सुखी 5 ग्राम, कपूर 1 ग्राम, सेंधा नमक 5 ग्राम तथा गेरू 10 ग्राम इन वस्तुओं का समान मात्रा में महीन चूर्ण बनाकर रख लें इससे दिन में तीन बार उंगली से रगड़ रगड़ कर देर तक अच्छी तरह से मंजन करें यह मंजन पायरिया की अनुभूत औषधि है।
12. अजीर्ण और कब्ज ना हो -- यह ध्यान रखते हुए हल्का सुपाच्य भोजन लें रात को सोते समय हर्रे खाकर गर्म दूध पिये सुबह 2 ग्राम सूखे आँवले का चूर्ण पानी के साथ लें। मिर्च-मसाला चाय-काफी का प्रयोग ना करें।
13. सरसों के तेल में सेंधा नमक के स्थान पर बारीक हल्दी का चूर्ण मिलाकर दांतों पर नित्य सोने से पहले मलने से पायरिया तथा दांतो की कई तकलीफें जैसे-दांत व मसूड़े दर्द करना, उन से खून आना, दांतों में ठंडा पानी लगना आदि में कुछ ही सप्ताह के प्रयोग से आश्चर्यजनक लाभ मालूम होने लगता है। 

मुंह की दुर्गंध का इलाज
एक लौंग मुंह में रखकर नित्य भोजन के बाद चूसने से मुंह से बदबू आनी बंद हो जाती है व दुर्गंधमय सांस दूर होती है ।
अगर दांतों में अचानक दर्द उठे तो अदरक के छोटे-छोटे टुकड़े छिलका उतारकर पीड़ित दांतों के बीच दबाने एवं रस चूसने से कई तरह के दांतो के दर्द मिटते हैं