Home Remedy for Stomach Pain sagarvansi ayurveda

पेट दर्द के लिए घरेलू उपचार / Home Remedy for Stomach Pain

आज इस ब्लॉग में हम आपको ऐसी समस्या के बारे में बताएंगे जो अधिकांश हर एक व्यक्ति को उत्पन्न होती है या हो सकती है। एक ऐसी समस्या जिसमें मनुष्य या पीड़ित को जरा भी चैन नहीं पड़ता जब तक उत्पन्न रोग शांत नहीं हो जाए। ऐसी समस्या का नाम है पेट का दर्द हम आपको पेट दर्द के लिए घरेलू उपचार (Home Remedies for Stomach Pain) के बारे में बताएंगे पेट में दर्द एक ऐसी समस्या है जो कभी भी किसी को भी उत्पन्न हो सकती है। इस समस्या को किसी प्रकार टैस्ट के द्वारा नहीं देख सकते हैं यह केवल पीड़ित व्यक्ति को ही महसूस होता है या पेट दर्द का कारण टैस्ट के द्वारा पता लगाया जा सकता है परंतु पेट दर्द नहीं पता लगाया जा सकता है। यह किसी भी व्यक्ति को उत्पन्न हो सकता है। इसलीए हमारे अनुसार इस समस्या के उपचार के बारे में तो सभी लोगों को पता होना आवश्यक है। पेट दर्द होने के कई कारण हो सकते हैं। जैसे पेट से संबंधित परेशानी या दिक्कत, किडनी या पित्ताशय की पथरी के कारण, अपेंडिक्स नस के कारण एवं अन्य कई कारण हो सकते हैं।पेट से संबंधित समस्या और कारण के बारे में अभी आगे चर्चा करेंगे, किडनी और पित्ताशय की पथरी के बारे में हम पूर्व के लेख में उपचार बता चुके हैं जिन्हें आप यहां हमारे "व्रक्क और लिबर" नाम के टाइटल में पढ़ सकते हैं और अपेंडिक्स के उपचार के बारे में हम जल्द ही अन्य लेख में आपको बताएंगे। आज यहां हम पेट से जुड़े रोग के लिए उपचार बताएंगे जिनके कारण किसी व्यक्ती के पेट में दर्द होता है।

पेट में दर्द होने के कारण

1.  पेट में होने वाला फ्लू

2.  पेट में  उतपन्न गैस के कारण दर्द

3. अपच होने के कारण

4. कब्ज के कारण

5. किसी प्रकार की फूड एलर्जी से

पेट दर्द के लिए घरेलु उपचार (Home Remedies for Stomach Pain)

पिसा हुआ काला नमक मात्रा एक भाग और बारीक पिसी हुइ अजवाइन का चूर्ण  मात्रा 6 भाग (1भाग काला नमक : 6 भाग अजवाइन का चूर्ण ) की मात्रा में मिला लें इस तैयार मिश्रण में से आधा चम्मच या अंदाजन 2 ग्राम की मात्रा में गर्म या गुनगुने पानी के साथ सेवन करने से पेट के दर्द में काफी जल्दी आराम मिलता है। छोटे बच्चों को यदि देना चाहें तो इस औषधिय मिश्रण की किसी बड़े या वयस्क के अनुसार आधी मात्रा का प्रयोग करें सकते हें। इस औषधि से पेट में पेट की गैस, वायु गोला और  आफरा का नाश होता है। विशेष  साधारण पानी से बताई औषधि का सेवन करने से बदहजमी के साथ - साथ  अरुचि, मन्दाग्नी  भी मिटती है। गुनगुने पानी के साथ केवल बारीक पिसा अजवाइन का चूर्ण के सेवन करने से पेट में तनाव, बदहजमी, कफ की खराबी, वायु, और तिल्ली की कई प्रकार की खराबियां या समस्याऐं इस प्रयोग से दूर होती हैं। इस औषधिय गुण वाले मिश्रण से पेट मे पनप रहे कीड़े अन्य कई प्रकार के छोटे बड़े क्रमी भी नष्ट हो जाते हैं। उपरोक्त सभी शिकायतों मैं पीड़ित को आवश्यकता के अनुरूप औषधि को 1 से 2 सप्ताह तक सेवन करें। एक अजवाइन ही एसा तत्व जिसमें काली मिर्च का अग्निदीपक गुण, हींग का वायु नाशक चिरायते का कटुपौष्टिक गुण प्राकृतिक रूप से समाया है। अजवाइन ही एकमात्र एसा तत्व जो कई प्रकार के अन्न को पचाने के लिए सिद्ध औषधि साबित हुई है। यह प्रयोग पेट दर्द, अफरा, वायु गोला, वात, कफ, शूल, वमन, बवासीर संक्रमण रोगों में यह अत्यधिक लाभकारी औषधि है।